देश के पहले मतदाता श्याम सरन नेगी का निधन, 106 साल की उम्र के थें

desh-ke-pehle-matdata-shyam-sharan-negi-ka-nidhan-106-saal-ki-umra-ke-the

किन्नौर : स्वतंत्र भारत के पहले मतदाता मास्टर श्याम सरन नेगी का शनिवार तड़के 106 साल की उम्र में निधन हो गया। आज ही शनिवार को सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

डीसी किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि मास्टर नेगी ने आज दुनिया को अलविदा कह दिया। उनकी तबीयत लंबे समय से ठीक नहीं चल रही थी और ऐसे में उनकी मौत की खबर तड़के करीब 3 बजे मिली है, आज प्रशासन सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार करेगा।

मास्टर श्याम सरन नेगी ने आखिरी बार 2 नवंबर को हिमाचल प्रदेश चुनाव में अपना वोट डाला था। उन्होंने अपने स्वास्थ्य की स्थिति के कारण वोट डालने के लिए पोस्टल बैलेट का इस्तेमाल किया था।

वोट डालने के बाद नेगी ने कहा कि मतदान लोकतंत्र का महान पर्व है और हम सभी को अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देश के सबसे उम्रदराज मतदाता नेगी की तारीफ की और कहा कि इससे नई पीढ़ी को वोट डालने की प्रेरणा मिलेगी।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “यह काबिले तारीफ है और इसे युवा मतदाताओं को चुनाव में हिस्सा लेने और हमारे लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए प्रेरणा के रूप में काम करना चाहिए।”

नेगी के बेटे सीपी नेगी ने कहा कि उनके पिता लंबे समय से बीमार थे और आज तड़के करीब 3 बजे उनका निधन हो गया और उन्होंने इस बारे में प्रशासन को सूचित कर दिया है.

उनके निधन के बाद हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी शोक व्यक्त किया और उनके लिए प्रार्थना की।

Related posts

Children’s Day 2022: 14 नवंबर को साझा करने के लिए कोट्स, शुभकामनाएं, नारे और भाषण विचार

Samdarshi Priyam

प्रसव दर्द से तड़पती रही, डॉक्टर ने HIV पॉजिटिव महिला को छूने से किया इनकार

Samdarshi Priyam

संविधान दिवस 2022: अब तक अपनाया गया सबसे लंबा राष्ट्रीय संविधान

Samdarshi Priyam

Leave a Comment