फीफा विश्व कप 2022: कतर में समलैंगिक ट्रांसजेंडर पर बवाल ! वन लव आर्मबैंड नहीं पहनेंगे कप्तान

Fifa-world-cup-2022-uproar-over gay-transgender-in-Qatar

फीफा विश्व कप 2022 में कतर में समलैंगिक ट्रांसजेंडर पर बवाल मच गया जब जर्मनी के खिलाड़ियों ने कल जापान के साथ खेले गये मैच में अपना मुंह ढंक कर विरोध जताया। जिसमें विश्व कप संस्था ने कहा था कि अगर कोई भी खिलाड़ी वन लव आर्मबैंड पहन कर मैदान में उतरता है तो उसके खिलाफ पीला कार्ड दिखा दिया जाएगा। हालांकि फीफा ने कतर में एक भेदभाव-विरोधी अभियान के लिए समर्थन दिखाते हुए अनधिकृत कप्तान आर्मबैंड पहनने की योजना को लेकर यूरोपीय टीमों के साथ गतिरोध को समाप्त करने की कोशिश की। लेकिन, यह काम नहीं किया।

कहानी का सरल संस्करण यह है कि सात यूरोपीय फुटबॉल संघ कतर के मानवाधिकार विवादों के विरोध के रूप में ‘वन लव’ आर्मबैंड पहनना चाहते थे। लेकिन फीफा चाहता था कि वे उन आर्मबैंड को पहनने से बचें। हालांकि, वे टीमों को मनाने में नाकाम रहे।

वन लव कैंपेन क्या है और वन लव आर्मबैंड क्या है?

द वन लव अभियान डच फुटबॉल एसोसिएशन की एक पहल थी, जिसे 2020 में शुरू किया गया था। इसका उद्देश्य सभी प्रकार के भेदभाव के खिलाफ बोलना और एकता का संदेश देना था। यह सिर्फ LGBTQAI (lesbian, gay, bisexual, transgender, queer/questioning (one’s sexual or gender identity), intersex, and asexual/aromantic/agender तक ही सिमित नही है।

आर्मबैंड में एक इंद्रधनुष-योजनाबद्ध दिल का डिज़ाइन है जो ‘विरासत, जाति, लिंग, पहचान और यौन अभिविन्यास के हर किसी के गौरव’ का प्रतिनिधित्व करता है। दिल के बीच में एक सफेद रंग का ‘1’ दिखाई देता है, जिसके दोनों ओर ‘एक’ और ‘प्रेम’ शब्द लिखे होते हैं।

यूरोपीय देश लव आर्मबैंड पहनने के इच्छुक क्यों थे?

सात यूरोपीय महासंघ इंग्लैंड, नीदरलैंड, डेनमार्क, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, वेल्स और बेल्जियम  फीफा विश्व कप 2022 में मेजबान राष्ट्र कतर के विरोध और अस्वीकृति दिखाने के लिए वन लव आर्मबैंड पहनना चाहते थे। कतर में समानता को बढ़ावा देने के लिए जहां समलैंगिक संबंध कानून के खिलाफ हैं। हाथ की पट्टियां भी एकजुटता और समानता का प्रदर्शन करने वाली थीं।

कतर को कथित तौर पर और बार-बार मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए दोषी ठहराया गया है, जिसमें स्टेडियम का निर्माण करते समय मजदूरों की मौत, महिलाओं के अधिकारों का उल्लंघन और LGBTQIA+ समुदाय की असहिष्णुता शामिल है।

सितंबर में, 10 यूरोपीय टीमों ने कहा कि उनके कप्तान आगामी यूईएफए-आयोजित खेलों में आर्मबैंड पहनेंगे। कतर में खेलने के लिए अर्हता प्राप्त करने वालों में से आठ ने कहा कि वे फीफा से भी अनुमति मांगेंगे। फ़्रांस ने कतर के प्रति सम्मान दिखाने की इच्छा का हवाला देते हुए समर्थन वापस ले लिया है।

कतर में कानून क्या है?

कतर में समलैंगिकता गैरकानूनी है और इसमें सात साल तक की जेल की सजा हो सकती है। कानून में यह भी कहा गया है कि समलैंगिक गतिविधियों में शामिल मुस्लिम पुरुषों को शरिया अदालतों में मौत की सजा का भी सामना करना पड़ सकता है।

ह्यूमन राइट्स वॉच ग्रुप ने हाल ही में दावा किया था कि कतर के सुरक्षा बलों ने LGBT (लेस्बियन गे, बायसेक्सुअल ट्रांसजेंडर) लोगों को बेतरतीब ढंग से गिरफ्तार किया है और हिरासत में उनके साथ बुरा व्यवहार किया है।

ह्यूमन राइट्स वॉच के साथ एलजीबीटी अधिकार शोधकर्ता राशा यूनुस ने कहा, “कतर विश्व कप की मेजबानी करने की तैयारी कर रहा है, लेकिन सुरक्षा बल एलजीबीटी लोगों को हिरासत में ले रहे हैं और उनके साथ दुर्व्यवहार कर रहे हैं, स्पष्ट रूप से आश्वस्त हैं कि सुरक्षा बल के दुर्व्यवहार की रिपोर्ट नहीं की जाएगी और अनियंत्रित होगी। एलजीबीटी लोगों के खिलाफ हिंसा के लिए कतरी अधिकारियों को दण्ड से मुक्ति को समाप्त करने की आवश्यकता है।

फीफा विश्व कप 2022 आर्मबैंड पहनने से इनकार क्यों किया?

फीफा का रुख वन लव आर्म्बैंड के उपयोग की अनुमति नहीं देने का था और इसने 19 नवंबर को यूरोपीय संघों के साथ बैठक की। फीफा चाहता था कि सात यूरोपीय फुटबॉल महासंघ अपने कप्तानों को वन लव आर्मबैंड पहनने की अनुमति देने से पीछे हटें और इसके बजाय उनके द्वारा सुझाए गए आर्मबैंड पहनें।

लेकिन वे यूरोपीय लोगों को शनिवार को घोषित प्रति-प्रस्ताव के साथ राजी करने में विफल रहे। “फीफा दो दिन पहले ही बयान जारी कर कहा था कि आर्मबैंड यह हमें स्वीकार्य नहीं। बाद में नीदरलैंड फुटबॉल संघ ने बयान जारी किया कि हम नही चाहते कि शुरू में ही कप्तान को येलो कार्ड मिल जाए। जिसके बाद भारी मन से कार्यकारी और एक टीम के कारण प्लान बदल देना पड़ा।

कप्तान के बाजूबंद पहनने के लिए फीफा नियम क्या है?

आर्मबैंड विवाद हालांकि फीफा के नियमों का स्पष्ट उल्लंघन होगा यदि किसी देश ने इसे पहनने के लिए चुना तो। “फीफा संस्था फाइनल प्रतियोगिताओं के लिए, प्रत्येक टीम के कप्तान को फीफा द्वारा प्रदान किए गए कप्तान के बाजूबंद पहनने का ही नियम है। इसी तरह का नियम इस साल के विश्व कप के टूर्नामेंट नियमों में लिखा गया है।

यदि टीमों ने नियमों का उल्लंघन किया तो फीफा आमतौर पर अनुशासनात्मक कारवाई करेगा, सजा के प्रावधान के तहत लगभग 10,000 स्विस फ़्रैंक ($ 10,500) का जुर्माना लगा सकता है।

यह भी पढ़ें : ‘वर्ल्ड कप में फुटबॉल खेलना हराम’: जाकिर नाइक का वीडियो वायरल

Related posts

यॉर्कर बॉल कैसे डाला जाता है?

dailyhawker India

जानिए क्यों 2022 फीफा विश्व कप पहली बार सर्दियों में हो रहा है

Samdarshi Priyam

T20 IND vs NZ सूर्यकुमार यादव ने तोड़ा कोहली का रिकॉर्ड

Samdarshi Priyam

Leave a Comment