प्रसव दर्द से तड़पती रही, डॉक्टर ने HIV पॉजिटिव महिला को छूने से किया इनकार

suffering-from –abor-pain-doctor-refused-to-touch-hiv-positive-woman

फिरोजाबाद: उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है जिसमें एक गर्भवती महिला प्रसव दर्द से तड़पती रही और सिर्फ इसलिए इलाज से वंचित कर दिया गया क्योंकि वह एचआईवी पॉजिटिव थी। 20 वर्षीय महिला को अस्पताल के कर्मचारियों ने अकेला छोड़ दिया क्योंकि वे उसे छूने से डरते थे।

चिकित्सकीय लापरवाही के कारण महिला ने अपने बच्चे को जन्म के कुछ घंटों बाद ही खो दिया। फिरोजाबाद मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ संगीता अनेजा ने कहा कि महिला के परिवार द्वारा शिकायत दिए जाने के बाद अब इस घटना की जांच शुरू कर दी गई है।

एक निजी अस्पताल द्वारा सामान्य प्रसव के लिए 20 हजार रुपये की मांग किए जाने पर महिला के पिता उसे जिला अस्पताल ले गए। एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिता ने कहा कि राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) के जिला क्षेत्र अधिकारी से परामर्श करने के बाद वह अपनी बेटी को जिला अस्पताल ले गए थे।

हालांकि अस्पताल पहुंचने के बाद 6 घंटे से अधिक समय तक प्रसव पीड़ा से कराहती रही महिला की देखभाल के लिए कोई डॉक्टर आगे नहीं आया। महिला के पिता ने कहा कि उन्होंने डॉक्टरों से अपनी बेटी को देखने के लिए बार-बार अनुरोध किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

मामला अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारियों के पास जाने के बाद ही एक नर्स गर्भवती महिला को लेबर रूम में ले गई। महिला ने एक बच्चे को जन्म दिया, जिसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। अस्पताल के कर्मचारियों ने परिवार को बच्चे को देखने की अनुमति देने से भी इनकार कर दिया और उसे नवजात शिशु देखभाल इकाई में स्थानांतरित कर दिया। अगली सुबह बच्चे की मौत हो गई।

रिपोर्ट में नाको की फील्ड ऑफिसर सरिता यादव के हवाले से कहा गया कि “मैं लगातार एचआईवी पॉजिटिव महिला के संपर्क में थी। उसका परिवार एक निजी अस्पताल में इलाज कराने में असमर्थ था। इसलिए मैंने उन्हें मेडिकल कॉलेज आने के लिए कहा। लेकिन कोई डॉक्टर या अस्पताल का कर्मचारी उसके पास नहीं आया। मैंने उसके लिए चिकित्सा सहायता का अनुरोध किया।” लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

महिला दर्द से कराह रही थी। मैंने वरिष्ठ अधिकारियों को घटना के बारे में सूचित कर दिया है। महिला शादी के एक साल बाद अपने पति से अलग हो गई और फिरोजाबाद में अपने माता-पिता के साथ रह रही है। महिला के परिवार ने दावा किया कि शादी के तुरंत बाद उनकी बेटी को एचआईवी हो गया।

यह भी पढ़ें : – सरकारी लापरवाही ने एक इंसान को बनाया ‘कुत्ता’, उसने भौंक कर दिखाया

Related posts

फीफा विश्व कप में क्रोएशिया, स्पेन, जर्मनी और बेल्जियम: स्थान, समय, प्रसारण जानें पूरी खबर

Samdarshi Priyam

देश के पहले मतदाता श्याम सरन नेगी का निधन, 106 साल की उम्र के थें

Samdarshi Priyam

मोरबी पुल हादसा : ‘लापरवाही’ के आरोप में नगर निकाय प्रमुख निलंबित

Samdarshi Priyam

Leave a Comment